लता मंगेशकर गांधी मंडेला अवॉर्ड के लिए नामांकित


लता मंगेशकर को गांधी मंडेला अवॉर्ड की चयन समिति ने इस पुरस्कार के लिए नामांकित करने की घोषणा की है..

लता मंगेशकर गांधी मंडेला अवॉर्ड के लिए नामांकित


गांधी मंडेला अवॉर्ड के इस संस्करण हम बात करेगें एक ऐसी शख्सियत के बारे में जिन्होनें छ: दशकों तक लोगों के दिलों पर राज किया। जो भारत की सबसे लोकप्रिय और आदरणीय गायिका हैं। लता मंगेशकर को गांधी मंडेला अवॉर्ड की चयन समिति ने इस पुरस्कार के लिए नामांकित करने की घोषणा की है। इस चयन समिति में भारत, नेपाल और बांग्लादेश के सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पूर्व अध्यक्ष जिनमें भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति के.जी. बालाकृष्णन और न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, नेपाल के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति केदार नाथ उपाध्याय, बांग्लादेश के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एम डी तफज्जुल इस्लाम, अंतर्राष्ट्रीय योग गुरु और पतंजलि योगपीठ के संस्थापक बाबा रामदेव के साथ भारत के सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश ज्ञान सुधा मिश्रा शामिल हैं।

लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर, 1929 को  इंदौर  में एक मराठी ब्रम्हण परिवार में हुआ था। लता का छ: दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है। हालाँकि लता जी ने लगभग तीस से ज्यादा भाषाओं में फ़िल्मी और गैर-फ़िल्मी गाने गाये हैं लेकिन उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में एक पार्श्वगायक के रूप में रही है। अपनी बहन आशा भोंसले के साथ लता जी का फ़िल्मी गायन में सबसे बड़ा योगदान रहा है। लता की जादुई आवाज़ के भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ पूरी दुनिया में दीवाने हैं। सम्मानिय चयन समिति द्वारा इस महान विभूति को भी गांधी मंडेला अवार्ड द्वारा सम्मानित किया जाएगा।

 

We welcome 🇧🇩 Justice #MdTafazzulIslam
(Former Chief Justice of Bangladesh), #KedarNathUpadhiyay ji (former Chief Justice of Nepal 🇳🇵) & #BabaRamdev ji for joining as jury member for #GandhiMandelaAward 2019 pic.twitter.com/uyQBCy2v7k

— Gandhi Mandela Award (@gmaawards1) September 27, 2019

 

Recent Posts

Categories