गांधी मंडेला अवॉर्ड के लिए नामंकित लाल कृष्ण आडवाणी


गांधी मंडेला पुरस्कार के लिए भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी को भी नामांकित किया गया है..

गांधी मंडेला अवॉर्ड के लिए नामंकित लाल कृष्ण आडवाणी


 

महात्मा गांधी और नेल्सन मंडेला के विचारों के लिए प्रतिबद्ध गांधी मंडेला फाउंडेशन द्वारा आयोजित गांधी मंडेला पुरस्कार के लिए चयन समिति द्वारा भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी को भी नामांकित किया गया है। लाल कृष्ण आडवाणी भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं। भारतीय जनता पार्टी को भारतीय राजनीति में एक प्रमुख पार्टी बनाने में उनका योगदान सर्वोपरि कहा जा सकता है। वे कई बार बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं। लालकृष्ण आडवाणी का जन्म 8 नवम्बर 1927 को पाकिस्तान के कराची में जन्म हुआ था। हुआ था। विभाजन के बाद भारत आ गए आडवाणी ने 25 फ़रवरी 1965 को 'कमला आडवाणी' को अपनी अर्धांगिनी बनाया। आडवाणी के दो बच्चे हैं।

लालकृष्ण आडवाणी की शुरुआती शिक्षा लाहौर में ही हुई पर बाद में भारत आकर उन्होंने मुंबई के गवर्नमेंट लॉ कॉलेज से लॉ में स्नातक किया। आज वे भारतीय राजनीति में एक बड़ा नाम हैं। गांधी के बाद वो दूसरे जननायक हैं जिन्होंने हिन्दू आंदोलन का नेतृत्व किया और पहली बार बीजेपी की सरकार बनावाई। जनवरी 2008 में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने लोकसभा चुनावों को आडवाणी के नेतृत्व में लड़ने तथा जीत होने पर उन्हें प्रधानमंत्री बनाने की घोषणा की थी।

भारतीय जनता पार्टी के जिन नामों को पूरी पार्टी को खड़ा करने और उसे राष्ट्रीय स्तर तक लाने का श्रेय जाता है उसमें सबसे आगे की पंक्ति का नाम है लालकृष्ण आडवाणी। लालकृष्ण आडवाणी कभी पार्टी के कर्णधार कहे गए, कभी लौह पुरुष और कभी पार्टी का असली चेहरा। लालकृष्ण आडवाणी के लिए ये कहना गलत ना होगा कि वह पार्टी के इतिहास का अहम अध्याय हैं। गांधी मंडेला अवॉर्ड की अनुकरणीय समिति ने इसी लौह पुरुष को सम्मानित करने के लिए नामांकित किया है।

 

We welcome 🇧🇩 Justice #MdTafazzulIslam
(Former Chief Justice of Bangladesh), #KedarNathUpadhiyay ji (former Chief Justice of Nepal 🇳🇵) & #BabaRamdev ji for joining as jury member for #GandhiMandelaAward 2019 pic.twitter.com/uyQBCy2v7k

— Gandhi Mandela Award (@gmaawards1) September 27, 2019

 

Recent Posts

Categories