पहले कोरोना को हराओ, पोस्टर बाद में चिपकाओ


कोरोना के दंश से यूपी की जनता त्रस्त है, कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं लेकिन मुसीबत के इस दौर में भी सियासी संग्राम नहीं थम रहा। उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में पोस्टर वार छिड़ गया है, बीजेपी नेताओं, सांसदों और मंत्रियों के लापता होने के पोस्टर गली-गली में नजर आ रहे हैं।

 पहले कोरोना को हराओ, पोस्टर बाद में चिपकाओ


 
कोरोना के दंश से यूपी की जनता त्रस्त है, कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं लेकिन मुसीबत के इस दौर में भी सियासी संग्राम नहीं थम रहा। 
उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में पोस्टर वार छिड़ गया है, बीजेपी नेताओं, सांसदों और मंत्रियों के लापता होने के पोस्टर गली-गली में नजर आ रहे हैं। 
यूपी में पोस्टर वार की शुरूआत 21 मई को बलिया जिले से हुई जहां सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त और प्रदेश सरकार के मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला के कथित तौर पर लापता होने के पोस्टर लगाए गए थे। पुलिस ने इस मामले में समाजवादी छात्रसभा के पूर्व प्रदेश सचिव मनीष कुमार दुबे उर्फ मनन और पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष रोहित चौबे गिरफ्तार कर किया है। 
 
Lockdown Missing Posters Of BJP MP Virender Singh Mast And MLA ...
 
30 मई को लखनऊ में बीजेपी सांसद और केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के लापता होने के पोस्टर चिपकाए गए, पोस्टर्स में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और बीजेपी के विधायक सुरेश श्रीवास्तव को लापता बताया गया। इस मामले में भी पुलिस ने समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता समीर खान सुल्तान और जय सिंह यादव खिलाफ धारा 500 और 505 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। 
 
SP workers declare Lucknow MP and MLA west missing, get detained ...
 
अमेठी में केंद्रीय मंत्री और अमेठी की सांसद स्मृति ईरानी के लापता होने के पोस्टर गली-गली में दिखाई दिए, पोस्टर में पूछा गया है कि स्मृति ईरानी जी क्या अब आप अमेठी में सिर्फ कंधा ही देने आयेंगी? सांसद के लापता होने के पोस्टर पर कांग्रेस एमएलसी दीपक सिंह ने ट्वीट कर स्मृति ईरानी पर चुटकी ली।
 
vcedjk9g
 
दीपक सिंह ने लिखा कि ‘स्मृति ईरानी MP बनने के बाद 22 जून 2019 को पहली बार, 6 जुलाई को 4 घंटे के लिए, 28 अगस्त को 2 घंटे और बीच में एक बार 4 घंटे के लिए ही अमेठी आईं. बहुत लंबा वक्त हो गया, आपके कुछ कारकुन और हम सब अमेठीवासी भी आपको बहुत याद कर रहे हैं. घंटों में नहीं कुछ दिन तो बिताइए अमेठी में। कांग्रेस एमएलसी के इस वार पर खुद स्मृति इरानी ने मोर्चा संभाला और ट्वीट कर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के रायबरेली आने पर सवाल उठा दिए। 
 
पोस्टर चिपकाने का ये सिलसिला 2 जून को भी जारी रहा और इस बार निशाने पर आए केंद्रीय मंत्री और चंदौली सांसद डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय थे, जिनके लापता होने के पोस्टर चंदौली के पीडीडीयू नगर में लगाए गए। उन्हें ढूंढकर लाने वाले को 5,100 रुपये के इनाम की भी घोषणा की गई। इस मामले में पुलिस ने समाजवादी पार्टी से जुड़े छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष अंकित कुमार यादव के खिलाफ धारा 500 और 501 के तहत केस दर्ज किया है, साथ ही छात्र नेता के खिलाफ गुंडा एक्ट के तहत कार्रवाई करने की तैयारी कर ली है। इस पूरी सियासी जंग में बयानी हमले भी खूब हो रहे हैं। 
 
Posters in UP Against Missing Ministers | inFeed
 
बीजेपी के खिलाफ छिड़ा से पोस्टर वार सिर्फ यूपी तक ही सीमित नहीं है, बल्कि कई राज्यों में दिखाई दे रहा है। मध्य प्रदेश में भोपाल की सांसद प्रज्ञा ठाकुर के लापता होने के पोस्टर लगे हैं। कांग्रेस ने बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया के लापता होने के पोस्टर लगे हैं। 
 
Pragya Thakur In AIIMS: BJP After 'Missing' Posters Prop Up Across ...
 
राजस्थान में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के लापता होने के पोस्टर चिपकाए हैं, वहीं केंद्रीय राज्यमंत्री प्रताप चंद्र सारंगी के ओडिशा के बालासोर में लापता होने के पोस्टर लगाए गए हैं। ऐसे में सवाल ये उठता है कि जिस वक्त पूरा देश कोरोना का कहर झेल रहा है ऐसे मुश्किल वक्त में सियासत का ये पोस्टर वॉर कितना जायज है। देश के नेताओं के लिए कोरोना को हराना ज्यादा अहम है या अपने विरोधियों को आखिर सियासतदानों की नजर में जनता की तकलीफ ज्यादा अहमियत रखती है या फिर अपनी सियासी साख। 

Recent Posts

Categories