आयुष मंत्रालय ने पतंजलि की कोरोनिल को स्वीकारा, आज से शुरु होगी बिक्री: स्वामी रामदेव


स्वामी रामदेव ने एलोपैथिक चिकित्सा शोधकर्ताओं पर भी कटाक्ष किया और कहा कि उन्हें आयुर्वेद को एक विज्ञान के रूप में नहीं समझना चाहिए उसे 'औषधि का दर्जा' दिया जा सकता है।

आयुष मंत्रालय ने पतंजलि की कोरोनिल को स्वीकारा, आज से शुरु होगी बिक्री: स्वामी रामदेव


योग गुरु स्वामी रामदेव ने पतंजलि की आयुर्वेदिक COVID-19 दवा कोरोनिल पर अधिक विवरण देने के लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। उन्होंने घोषणा की कि आयुष मंत्रालय द्वारा इसे 'COVID प्रबंधन' दवा के रूप में करार दिए जाने के बाद यह दवा अब पूरे देश में उपलब्ध होगी। स्वामी रामदेव ने एलोपैथिक चिकित्सा शोधकर्ताओं पर भी कटाक्ष किया और कहा कि उन्हें आयुर्वेद को एक विज्ञान के रूप में नहीं समझना चाहिए उसे 'औषधि का दर्जा' दिया जा सकता है।

Patanjali claims that "#COVID19 patients group that received its medicines, showed 67% recovery in 3 days & 100% recovery in 7 days of treatment, that is, all 45 patients became COVID negative"; says all clinical trial documents have been shared with AYUSH Ministry. pic.twitter.com/jSMTxCwLp8

— ANI (@ANI) July 1, 2020

हमने आयुष मंत्रालय के साथ अपने मतभेदों को सुलझा लिया है और कोरोनिल सहित सभी तीन दवाएं अब बाजार में उपलब्ध होंगी: स्वामी रामदेव

इन दवाओं में कोई धातु नहीं पाई गई है: स्वामी रामदेव

हमारे शोध की मदद से, हमने हेपेटाइटिस को ठीक किया है, हमने अस्थमा को ठीक किया है: स्वामी रामदेव

आयुष मंत्रालय ने हमारी दवा के लिए 'COVID प्रबंधन' शब्द का उपयोग किया है न कि 'COVID उपचार': स्वामी रामदेव

हमने सिद्ध किया है कि बीपी को योग द्वारा ठीक किया जा सकता है, आधुनिक विज्ञानों के अनुसार यह संभव नहीं है: स्वामी रामदेव

पंजीकरण प्रक्रिया अलग है और अनुसंधान प्रक्रिया अलग है, हम दोनों का पालन करते हैं: स्वामी रामदेव

आधुनिक चिकित्सा विज्ञान द्वारा जो भी प्रोटोकॉल निर्धारित किए गए हैं, उनके अनुसार, हमने अश्वगंधा, गिलोय, तुलसी के उपयोग के साथ कोरोनिल बनाया है: स्वामी रामदेव 

हमने एक अंतरराष्ट्रीय शोध पत्र भी प्रकाशित किया है: स्वामी रामदेव

हमारा काम जारी रहेगा और हम अपने शोध के साथ एक लंबा रास्ता तय करने की योजना बना रहे हैं: स्वामी रामदेव

आयुर्वेदिक माध्यमों से कई बीमारियों के इलाज के लिए दिन-रात काम करने के लिए हमारे पास 500 वैज्ञानिकों की एक टीम है: स्वामी रामदेव
हमने सभी प्रोटोकॉल का पालन किया है। ये प्रोटोकॉल स्वामी रामदेव या पतंजलि द्वारा नहीं बल्कि आधुनिक चिकित्सा विज्ञान द्वारा स्थापित किए गए थे: स्वामी रामदेव

हमने पाया है कि हमारे परीक्षण उन फैक्टर्स को नियंत्रित करने में सक्षम थे जो कोरोनोवायरस के कारण किसी व्यक्ति की कंडीशनिंग को खराब करते हैं: स्वामी रामदेव

पतंजलि द्वारा किए गए परीक्षण में पाया गया कि तीन दिनों में 69% और 7 दिनों में COVID-19 से पीड़ित 100% रोगियों का परिक्षण नकारात्मक आया: स्वामी रामदेव

आयुष मंत्रालय ने स्वीकार किया है कि पतंजलि द्वारा उठाया गया कदम सही दिशा में है: स्वामी रामदेव

यदि मेरे या आचार्य बालकृष्णन के साथ आपका मतभेद है, तो हमारी आलोचना करें। लेकिन, कम से कम उन लोगों के प्रति नरम दिल होना चाहिए जो कोरोनोवायरस, मधुमेह, कैंसर और ऐसी अन्य बीमारियों से पीड़ित हैं: स्वामी रामदेव

मैं और आचार्य बालकृष्णन विनम्र पृष्ठभूमि से आते हैं: स्वामी रामदेव

लोगों ने कहा कि स्वामी रामदेव जेल जाएंगे: स्वामी रामदेव

पिछले कुछ दिनों में पतंजलि के बारे में बहुत कुछ अनुमान लगाया गया है। मुझ पर व्यक्तिगत रूप से लोगों द्वारा हमला किया गया था। उन्होंने कहा कि पतंजलि विफल रही, यू-टर्न लिया: स्वामी रामदेव

Recent Posts

Categories