कानपुर: अपराधियों के साथ मुठभेड़ में डिप्टी एसपी समेत 8 यूपी पुलिस के जवान शहीद


कानपुर में आज अपराधियों द्वारा गोलीबारी किए जाने के बाद अपनी जान गंवाने वाले आठ पुलिसकर्मी हैं- सीओ देवेंद्र कुमार मिश्रा, एसओ महेश यादव, चौकी इंचार्ज अनूप कुमार, सब-इंस्पेक्टर नेबुलाल, कांस्टेबल सुल्तान सिंह, राहुल, जितेंद्र और बबलू।

कानपुर: अपराधियों के साथ मुठभेड़ में डिप्टी एसपी समेत 8 यूपी पुलिस के जवान शहीद


60 आपराधिक मामलों का सामना कर रहे हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार करने की कोशिश के दौरान शुक्रवार को कानपुर में डिप्टी एसपी सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हुए। अपराधियों द्वारा पुलिस पर गोलीबारी की गई थी जब वे दुबे की तलाश में 2 और 3 जुलाई की रात को बीकरू गांव में छापा मारने गए थे।

जनपद कानपुर में... https://t.co/x9idKYxsae

— Yogi Adityanath (@myogiadityanath) July 3, 2020

पुलिस टीम खूंखार अपराधी के ठिकाने तक पहुंचने वाली थी, इससे पहले बिल्डिंग की छत से उन पर गोलियों की बौछार कर दी गई, जिससे डिप्टी एसपी देवेंद्र मिश्रा, तीन सब-इंस्पेक्टर और चार कांस्टेबल मारे गए।

इस बीच, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने ड्यूटी करते वक्त अपनी जान गंवाने वाले पुलिसकर्मियों के निधन पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने यह भी आदेश दिया कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

कानपुर में आज अपराधियों द्वारा गोलीबारी किए जाने के बाद अपनी जान गंवाने वाले आठ पुलिसकर्मी हैं- सीओ देवेंद्र कुमार मिश्रा, एसओ महेश यादव, चौकी इंचार्ज अनूप कुमार, सब-इंस्पेक्टर नेबुलाल, कांस्टेबल सुल्तान सिंह, राहुल, जितेंद्र और बबलू।

डीजीपी एचसी अवस्थी ने बताया कि "एसटीएफ को तैनात किया गया है। आईजी/एसटीएफ मौके पर पहुंच रहे हैं। कानपुर एसटीएफ पहले से ही काम कर रही है। बड़े पैमाने पर घपले किए जा रहे हैं। यह उस ऑपरेशन के साथ जारी है, जिसके लिए टीम पहले स्थान पर गई थी।" 

"हमारे लगभग 7 लोग घायल हो गए। ऑपरेशन अभी भी जारी है क्योंकि अपराधी अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में कामयाब रहे। आईजी, एडीजी, एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) को ऑपरेशन की निगरानी के लिए वहां भेजा गया है। कानपुर से फॉरेंसिक टीम मौके पर पहुंची थी। लखनऊ से एक विशेषज्ञ दल भी भेजा जा रहा है।

जेएन सिंह, एडीजी कानपुर जोन, ने कहा: "हमने तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। आठ पुलिस कर्मियों की मौत हो गई, चार घायल हो गए। उनका इलाज अस्पताल में किया जा रहा है। पड़ोसी जिलों कन्नौज और कानपुर देहात से पुलिस को भी बुलाया गया है।"

सीएम योगी आदित्यनाथ ने घटना की निंदा की। उन्होंने ट्वीट किया, "उत्तर प्रदेश उन शहीद पुलिसकर्मियों को कभी नहीं भूलेगा, जिन्होंने अपने कर्तव्यों का निर्वहन अदम्य साहस के साथ किया था। उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।"

जनपद कानपुर में 'कर्तव्य पथ' पर अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले 08 पुलिसकर्मियों को भावभीनी श्रद्धांजलि।

शहीद पुलिसकर्मियों ने जिस अपरिमित साहस व अद्भुत कर्तव्यनिष्ठा के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन किया, उ.प्र. उसे कभी भूलेगा नहीं। उनका यह बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

— Yogi Adityanath (@myogiadityanath) July 3, 2020

Recent Posts

Categories