किसानों के प्रदर्शन का अब थाली पर असर, महंगे हुए सब्जी-फल के दाम


देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के धरना-प्रदर्शन के चलते फलों और सब्जियों की आपूर्ति बाधित होने से रविवार को इनकी कीमतों में वृद्धि दर्ज की गई।

किसानों के प्रदर्शन का अब थाली पर असर, महंगे हुए सब्जी-फल के दाम


लगातार पिछले दो महीनें से किसानों द्वारा पास हुए तीन कृषि कानूनों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था, जिसके बाद किसानों ने दिल्ली कूच का एलान किया था। दिल्ली की सीमा पर पहुंचे किसानों ने दिल्ली के 5 सथानों को सील करने की घोषणा भी कर दी है। 

किसान आंदोलन के कारण अब आम लोगों की परेशानी बढ़ती ही जा रही है। जिसके चलते सोमवार सुबह दिल्ली पुलिस ने जानकारी दी कि टिकरी और सिंघु बॉर्डर को किसी भी ट्रैफिक मूवमेंट के लिए बंद कर दिया गया है। गाजीपुर बॉर्डर पर भी किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने बैरिकेडिंग की है। 

किसानों से बातचीत के लिए केंद्र सरकार ने उन्होंने निरंकारी ग्राउड पर जाने को कहा और साथ ही 3 दिसंबर का समय दिया है, लेकिन सराकर के प्रस्ताव को किसानों ने अस्वीकार कर दिया और रविवार को कहा कि वे कोई सशर्त बातचीत स्वीकार नहीं करेंगे। 

किसानों के आंदोलन के मुद्दे पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने रविवार देर शाम भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ चर्चा की। 

देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के धरना-प्रदर्शन के चलते फलों और सब्जियों की आपूर्ति बाधित होने से रविवार को इनकी कीमतों में वृद्धि दर्ज की गई। खासतौर से आलू और सेब के दाम बढ़ गए हैं। दिल्ली में जहां सेब का खुदरा भाव रविवार को रुपये 120 किलो से ऊपर चल रहा था, जबकि दो दिन पहले राष्ट्रीय राजधानी में सेब 80 से 100 रुपये किलो बिक रहा था। इसी प्रकार आलू का भाव जहां 40 रुपये प्रति किलो चल रहा था वहां रविवार को 50 रुपये किलो आलू बिक रहा था। इसी प्रकार, अन्य शाक-सब्जियों के दाम में भी वृद्धि देखी गई।

Recent Posts

Categories